Search This Blog

Wednesday, March 26, 2014

प्रेस विज्ञप्ति - लोकसभा चुनाव 2014 में कहां हैं बच्चे

मध्य प्रदेश में एक लाख लोगों ने बाल अधिकारों के पक्ष में किये हस्ताक्षर




भोपाल: दिनांक 25 मार्च 2014. क्राई (चाइल्ड राइट्स एंड यू), मध्य प्रदेश  लोक संघर्ष साझा मंच और सहयोगी संस्था /संगठनों द्वारा मध्य प्रदेष में लोकसभा चुनाव 2014 के दौरान बाल अधिकारों के पक्ष में चलाए गए हस्ताक्षर अभियान के समापन पर प्रेस काॅन्फ्रेंस का आयोजन किया गया। इस दौरान मध्य प्रदेश  में बच्चों की स्थिति, बाल अधिकारों के लिए संगठन की ओर से जारी किये गये मांगपत्र, एवं प्रदेश  में बाल अधिकारों के पक्ष में चलाए गए हस्ताक्षर अभियान को लेकर बातचीत की गई। 

मंच के संयोजक गोविंद यादव ने बताया कि, ‘‘बच्चों की स्थिति को बेहतर बनाने के लिए यह जरुरी है कि उनके मुद्दों और समस्याओं को राजनैतिक विर्मष के केन्द्र में लाया जाये, इसके लिए चुनाव का समय उपयुक्त होता है। इसीलिए हमने इस चुनाव के दौरान बच्चों के मुद्दों को राजनैतिक दलों, समुदाय, के समक्ष लाने के लिए मध्य प्रदेष में प्रक्रिया चलाई है ताकि चुनाव के दौरान राजनैतिक दलों एवं उसके बाद बनने वाली सरकार की कार्ययोजना और एजेंडे में प्रमुखता से बच्चों के मुद्दे प्रमुखता से शामिल हों। साथ ही समुदाय के एजेंडे में बाल अधिकार के मुद्दों को लाया जा सके।  

क्राई के महा प्रबंधक सुभेंदु भट्टाचार्य ने कहा कि ‘‘हमारे देष में बच्चों की आबादी 40 प्रतिशत है लेकिन बजट में उनके लिए आवंटन नाम मात्र का होता है। ऐसे में इस चुनाव के दौरान राजनैतिक दलों से अपेक्षा है कि वे इस पर ध्यान देंगे और अपने चुनावी वायदों और घोषणा पत्र में इस मुद्दे को प्रमुखता से रखेंगे। उन्होंने स्पष्ट करते हुए बताया कि, ‘हम सभी संगठन किसी राजनैतिक दल के पक्ष या विपक्ष में नहीं खड़े हैं, हम केवल बच्चों के अधिकारों के प्रति अपने आपको प्रतिबद्व मानते हैं तथा प्रदेष में बच्चों की स्थिति को बेहतर बनाने के लिए कार्यपालिका, विधायिका ,न्यायपालिका और नागरिक समाज के साथ मिल कर जनवकालत और संवाद की प्रक्रिया चला रहे हैं।’’

मंच की सदस्य सियादुलारी आदिवासी ने बताया कि, लोक सभा चुनाव 2014 के मद्दे नजर, क्राई, मध्य प्रदेश  लोक संघर्ष साझा मंच, और सहयोगी संस्था/संगठनों द्वारा बाल अधिकारों के पक्ष में एक मांग पत्र तैयार
H.T. Bhopal, 26 March 2014 
किया गया है। इसमें बच्चों की स्थिति को बेहतर बनाने के लिए षिक्षा, मातृत्व एवं बाल स्वास्थ्य, कुपोषण, बाल सुरक्षा एवं बजटीय प्रावधानों से संबंधित मांगे शामिल की गई हैं। इस मांग पत्र को सभी प्रमुख राजनैतिक पार्टियों के साथ साझा किया गया है। 
मंच के सहयोगी संगठन हिफाजत की रेखा श्रीधरने बताया कि, मांग पत्र के समर्थन में संगठनों द्वारा प्रदेष के 13 जिलों में 3 माह तक हस्ताक्षर अभियान चलाया गया है। अभियान के दौरान इन मांगों को समुदाय की ओर से व्यापक समर्थन मिला है। अब तक करीब 1 लाख नागरिकों ने बाल अधिकारों पर अपना समर्थन व्यक्त करते हुए हस्ताक्षर किए हैं।

मंच के सचिव जावेद अनीस ने बताया कि, इस अभियान का प्रमुख उद्देष्य लोकसभा चुनाव के दौरान विभिन्न राजनैतिक दलों को प्रदेष में बच्चों की स्थिति से अवगत कराना है, ताकि इस चुनाव में प्रदेष के बच्चों की स्थिति राजनैतिक, सामाजिक ताकतों, मीडि़या और आम मतदाताओं के बीच बहस का एक मुद्दा बने।



मध्य प्रदेश  लोक संघर्ष साझा मंच द्वारा जारी 

No comments:

Post a Comment