Search This Blog

Monday, May 6, 2013

कविता- कोई मुझको बचाने वाला है!


अली सरदार जाफ़री की नज़्म

hands-of-eight-year-old-child-worker
मां है रेशम के कारखाने में
बाप मसरूफ़ सूती मिल में है
कोख से मां की जब से निकला है
बच्चा खोली के काले दिल में है

जब यहां से निकल के जाएगा
कारखानों के काम आएगा
अपने मजबूर पेट की खातिर
भूख सरमाये की बढ़ाएगा

हाथ सोने के फूल उगलेंगे
जिस्म चांदी का धन लुटाएगा
खिड़कियां होंगी बैंक की रौशन
खून इसका दिए जलाएगा

यह जो नन्हा है भोला भाला है
खूनीं सरमाये का निवाला है
पूछती है यह इसकी खामोशी
कोई मुझको बचाने वाला है!

No comments:

Post a Comment