Monday, August 26, 2013

‘मिड डे मील पर प्रति बच्चा खर्च विश्वसनीय नहीं’: संसदीय समिति

नयी दिल्ली, 25 अगस्त (भाषा) : प्रति बच्चा मध्याह्न भोजन पर तय 3.11 रुपये से 4.65 रुपये के खर्च को अविश्वसनीय बताते हुए एक संसदीय समिति ने कहा है कि पीने के पानी की एक बोतल भी 10 रुपये में मिलती है। समिति ने चेतावनी दी है कि अगर सब कुछ दुरुस्त नहीं किया गया तो बिहार जैसी त्रासदी फिर हो सकती है।

महिलाओं की अधिकारिता पर समिति ने संसद में पेश अपनी रिपोर्ट में सिफारिश की है कि स्कूलों में दिए जाने वाले मध्याह्न भोजन की प्रति बच्चा लागत वास्तविक आधार पर तय की जानी चाहिए। समिति ने सरकार से अनुरोध किया है कि प्रति बच्चा लागत, कैलोरी की मात्रा और मध्याह्न भोजन तैयार करने के तरीके आदि के संदर्भ में योजना के क्रियान्वयन की नियमित समीक्षा की जानी चाहिए।

स्थायी समिति के अनुसार, यह हैरत की बात है कि योजना की तैयारी के लिए स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग, मानव संसाधन मंत्रालय और ब्लॉक एवं स्थानीय निकायों द्वारा तमाम तरह के इंतजाम किए जाने के बावजूद बिहार में त्रासदी हुई।

बिहार के सारण जिले में 16 जुलाई को एक स्कूल में मध्याह्न भोजन खाने के बाद 23 बच्चों की मौत हो गई थी। इनमें से ज्यादातर बच्चों की उम्र दस साल से कम थी। संदेह है कि भोजन पकाने के लिए उपयोग किए गए तेल में कीटनाशक मिला था। (एजेंसी)

No comments:

Post a Comment