Search This Blog

Thursday, June 6, 2013

कविता / इल्म बड़ी दौलत है / इब्ने इंशा

- इब्ने इंशा      

इल्म बड़ी दौलत है ।
तू भी स्कूल खोल ।
इल्म पढ़ा ।
फीस लगा ।
दौलत कमा ।
फीस ही फीस ।
पढ़ाई के बीस ।
बस के तीस ।
यूनिफार्म के चालीस ।
खेलों के अलग ।
वेरायटी प्रोग्राम के अलग ।
पिकनिक के अलग ।
लोगों के चीखने पर न जा ।
दौलत कमा ।
उससे और स्कूल खोल ।
उनसे और दौलत कमा ।
कमाए जा, कमाए जा ।
अभी तो तू जवान है ।
यह सिलसिला जारी है ।
जब तक गंगा – जमना है ।
पढ़ाई बड़ी अच्छी है ।
पढ़ ।
बहीखाता पढ़ ।
टेलीफोन डाइरेक्टरी पढ़ ।
बैंक – असिसमेंट पढ़ ।
जरूरते-रिश्ता के इश्तेहार पढ़ ।
और कुछ मत पढ़ ।
मीर और ग़ालिब मत पढ़ ।
इकबाल और फैज़ मत पढ़ ।
इब्ने इंशा को भी मत पढ़ ।
वरना तेरा बड़ा पार न होगा ।
और हममें से कोई नताएज* का जिम्मेदार न होगा ।


(नतीजा का बहुवचन नताएज )


No comments:

Post a Comment